विश्व एड्स दिवस

Spread the love

विश्व एड्स दिवस ( एड्स का नाम, एचआईवी,एड्स होने के कारण, बचाव, विश्व एड्स दिवस का महत्त्व, आदि)

विश्व एड्स दिवस-: एड्स एक वैश्विक महामारी है, इस महामारी से बचने के लिए संसार के सभी लोगों को जागरूक करने के लिए प्रत्येक वर्ष 1 दिसंबर को  विश्व एड्स दिवस मनाया जाता है।

विश्व एड्स दिवस
विश्व एड्स दिवस

एड्स (AIDS) का पूरा नाम-:

(ACQUIRED IMMUNE DEFICIENCY SYNDROME), एक्वायर्ड इमयूनो डेफ़िसियनसी सिंड्रोम

HIV(एचआईवी) “ह्यूमन इमयूनोडेफ़िशियनशी वायरस” (HUMAN IMMUNO DEFICIENCY VIRUS)  यह एक ऐसा विषाणु है, जो शरीर की कोशिकाओं को नष्ट करता है। कोशिकाएं शरीर को इन्फेक्शन से बचाती है। मनुष्य के शरीर की कोशिकाओं को नष्ट करने से उसका शरीर कई बीमारियों से ग्रसित हो जाता है।

एड्स का वायरस मानव के रक्त, यौन तरल पदार्थ, एवं स्तन के दूध में रहता है। इसका इलाज ना होने के कारण यह एड्स  का रूप ले लेता है।

विश्व एड्स दिवस क्यों मनाया जाता है?-:

एड्स एक वैश्विक महामारी है, इस बीमारी के कारण लोगों की जन भी चली जाती है। इस वैश्विक महामारी से बचने के लिए एवं लोगों को जागरूक करने के लिए प्रत्येक वर्ष 1 दिसंबर को विश्व एड्स मनाया जाता है।

विश्व एड्स दिवस हिस्ट्री-:

विश्व एड्स दिवस सर्वप्रथम 1 दिसंबर, 1988 को मनाया गया था। 1 दिसंबर 1987 में प्रथम बार एड्स पर वैश्विक कार्यक्रम हेतु सार्वजनिक सूचना अधिकारी जेम्स डब्ल्यू बन एवं थॉमस नेत्र द्वारा जारी किया गया था। अभियान के प्रथम दो वर्षों में विश्व एड्स परिवार पर एड्स के प्रभावों को सार्वजनिक करने के लिए बच्चों एवं युवाओं पर केंद्रित था।

एड्स होने का कारण-:

मानव द्वारा जब लापरवाही किया जाता है, तो एड्स होने का खतरा बरकरार रहता है। एड्स होने के प्रमुख कारण निमन्वत है-

  • असुरक्षित यौन संबंध बनाने से ।
  • एचआईवी से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में इंजेक्शन या अन्य यंत्र को प्रयोग करें से यह रोग हो जाता है।

एड्स से बचने के उपाय-:

एड्स से बचने के उपाय प्रमुख रूप से निमन्वत है-:

  • असुरक्षित यौन समनबंध न बनाना। संबंध बनाते समय कंडोम का प्रयोग करना।
  • प्रयोग की हुई सीरेंज या इंजेक्शन का प्रयोग न करना।

 

UNAIDS ने 1996 में विश्व एड्स दिवस के संचालन को अपने हाथों में ले लिया और इसके दायरे को एक वर्ष के लिए और बढ़ा दिया।

विश्व एड्स दिवस का महत्त्व-:

विश्व एड्स दिवस का महत्त्व प्रमुख रूप से निमन्वत है-:

  • एचआईवी या एड्स से ग्रसित लोगों को लाभ। देने के लिए धन को इकठ्ठा करना।
  • लोगों में एड्स को रोकने के लिए जागरूक करना।
  • एचआईवी अथवा एड्स से ग्रसित लोगों से भेद-भाव करने वालों लोगों को जागरूक करना।
  • एड्स से संबंधित भ्रांति को दूर करना।

विश्व एड्स दिवस 2021 की थीम-:

विश्व एड्स दिवस 2021 की थीम “असमानताओं को समाप्त करें एड्स को खत्म करें”

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का कहना है की इस वर्ष का प्रमुख एजेंडा है, की दुनिया भर में जरूरी एचआईवी सेवाओं तक पहुँच में बढ़ती असमानताओं को सार्वजनिक करना है। विभाजन असमानता एवं मानवाधिकारों की अवहेलना उन विफलताओं में से है जिसमें जो एचआईवी को वैश्विक स्वास्थ्य संकट बनने और बने रहने दिया।

विश्व एड्स दिवस पर UNAIDS के अनुसार असमानताओं के खिलाफ साहसिक कार्यवाही के बिना संसार 2030 तक एड्स को समाप्त करने कालक्ष्य रखा है।

आप इसे भी पढ़ें-:

एमपी मुख्यमंत्री राशन आपके ग्राम योजना 2021

उत्तर प्रदेश शादी अनुदान योजना | Uttar Pradesh Shadi Yojana

Solar system in hindi

भारतीय जलवायु के प्रकार एवं विशेषताएं

 


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.